मोबाइल प्रेम (इश्क़) और वेलेंटाइन डे-हास्य कविता (mobil love and valentien day-hindi hasya kavita or comedy poem)


माशुका ने आशिक से कहा
“इस वेलेंटाइन डे पर
मुझे नया मोबाइल लाकर देना,
देखना नए मॉडल का हो
किसी अच्छी दुकान से लेना,
पिछली बार वेलेंटाइन डे पर
जो तुमने यह मोबाइल दिया था,
लगता है फुटपाथ से लिया था,
मेरी चेतावनी अपने ध्यान में रखना,
वरना पड़ेगा मज़ा चखना।”

सुनकर सकपकाया आशिक
फी रूआँसा होकर बोला
“लगता है यह वेलेंटाइन डे
मेरे शुभ को अशुभ करने आया है,
मैं तुम्हारा पहला प्यार हूँ
यह तुमने मेरे प्रेम पत्र के जवाब में बताया है,
हमारी प्रेम की पींगे केवल चार माह पुरानी है,
अभी तो मेरी पहले गिफ्ट तुम्हारे पास आनी है,
यह पिछले साल के आशिक का तोहफा
तुम्हें मेरा कैसे नज़र आया,
उस मासूम को तुमने कैसे भुलाया,
अच्छा हुआ तुमने मुझे बता दिया
अब मुझे तुमसे कोई संबंध नहीं रखना।”
कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
http://rajlekh.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • shashi  On फ़रवरी 14, 2012 at 9:46 पूर्वाह्न

    बेहया माशुका.

  • Padm Singh पद्म सिंह  On फ़रवरी 18, 2012 at 4:34 पूर्वाह्न

    प्रेम का नया चलन

  • manojsa  On मार्च 27, 2012 at 12:18 अपराह्न

    महोदय आपका ब्लॉग बहुत बढिया है मैंने हिन्दी हास्य कविताओं को इकठ्ठा करने का एक प्रयास किया है जिसके तहत मैं वेब पर फैली हास्यकविताओं को एक जगह समेट रहा हूं.. मुझे भुत खुशी होगी अगर आप यहां भी अपना योगदान देंगे
    http://bit.ly/GWX0Me

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: