बैचेन रहने की आदत-हिन्दी कविता


लोगों की हमेशा  बेचैन रहने की 
आदत   ऐसी हो गयी है कि
जरा से सुकून मिलने पर भी
डर जाते हैं,
कहीं कम न हो जाये
दूसरों के मुकाबले
सामान जुटाने की हवस

अभ्यास बना रहे लालच का
इसलिये एक चीज़ मिलने पर
दूसरी के लिये दौड़ जाते हैं।
———
पुराने कायदों से आज़ाद होकर
दौड़ने के लिये मन तो बहुत करता है,
मगर बिना अक्ल के चले भी
तो गिरने के अंदेशे बहुत हैं,
ज़मीन पर चलने वालों के लिये खतरा कम है
हवा में उड़कर गिरने का भी डर रहता है।
————-

लेखक संपादक-दीपक ‘भारतदीप’,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • mehek  On नवम्बर 4, 2010 at 5:51 अपराह्न

    bilkul sahi ek aakansha puri hone par manushay dusri chaht rakhta hai aur usko khone ka darr bhi.
    aapko sahparivar dipawali ki shubkamnaye.

  • dsm  On दिसम्बर 23, 2011 at 8:06 अपराह्न

    लोगों की हमेशा बेचैन रहने की
    आदत ऐसी हो गयी है कि
    जरा से सुकून मिलने पर भी
    डर जाते हैं,
    कहीं कम न हो जाये
    दूसरों के मुकाबले
    सामान जुटाने की हवस
    अभ्यास बना रहे लालच का
    इसलिये एक चीज़ मिलने पर
    दूसरी के लिये दौड़ जाते हैं।
    ———
    पुराने कायदों से आज़ाद होकर
    दौड़ने के लिये मन तो बहुत करता है,
    मगर बिना अक्ल के चले भी
    तो गिरने के अंदेशे बहुत हैं,
    ज़मीन पर चलने वालों के लिये खतरा कम है
    हवा में उड़कर गिरने का भी डर रहता है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: