संत कबीर वाणी:कितना भी कष्ट हो मूर्ख से मित्रता न करें


गिरिये परवत शिखर ते, परिये धरनि मंझार
मूरख मित्र न कीजिए, बूडो काली धार

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि चाहे पर्वत के शिखर से गिरना पड़े, मझधार में फंसे हों या कीचड में धंसना पड़े तब भी मूर्ख से मित्र मत कीजिए।

स्त्रोता तो घर ही नहीं, वक्ता बकै सो बाद
स्त्रोता वक्ता एक घर, तब कथनी को स्वाद

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि यदि सुनने वाला अपना कान ही नहीं धरे तो वक्ता के बकते रहने का क्या लाभ। किसी को उपदेश तो तभी दिया जा सकता है जब वह सुनने वाला हो। अगर श्रोता और वक्ता का आपस में सामंजस्य न हो तो वार्तालाप निरर्थक हो जाता है।

बसन्त पंचमी की समस्त साथियों, पाठकों और मित्रों को बधाई

दीपक भारतदीप

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • mehhekk  On फ़रवरी 12, 2008 at 4:59 अपराह्न

    basant ki badhai apko bhi,ek dam sahi,chahe lakh musibat mein ho,murakh se dosti nahi karo.

  • manisha  On अक्टूबर 8, 2011 at 1:04 अपराह्न

    nice

  • Aashish  On अक्टूबर 14, 2011 at 6:54 पूर्वाह्न

    kya aapke paas dosti par dohe hai

  • P.N.Rao  On अक्टूबर 31, 2011 at 4:22 पूर्वाह्न

    Sahi mein, Bhainsh ke aage bin bajane se kya fayda.

  • अजय कुमार मंगलम  On जनवरी 5, 2012 at 4:24 अपराह्न

    Too good

  • Rahul sharma  On फ़रवरी 16, 2012 at 11:35 पूर्वाह्न

    awesome

  • ANANTIKA SHARMA  On अक्टूबर 22, 2012 at 5:27 पूर्वाह्न

    I NEED 2 DOHAS ON FRIENDSHIP

  • झंडी  On अक्टूबर 22, 2012 at 7:54 पूर्वाह्न

    क्या आपके के पास मित्रता पर दोहे हैं?

  • avantika  On नवम्बर 9, 2012 at 2:45 अपराह्न

    i want dohe on friendship plzzzzzzzz

  • ileana  On नवम्बर 16, 2012 at 12:25 अपराह्न

    kya aapke paas koi dosti par dohe nahi hai

  • pratyaksh jindal  On फ़रवरी 4, 2013 at 10:52 पूर्वाह्न

    mujhe ye bahut ache lage

  • tofique  On फ़रवरी 15, 2013 at 4:47 अपराह्न

    too good

  • abhinav  On अक्टूबर 18, 2014 at 4:01 अपराह्न

    niceeeeeeeeeeeeeeee

  • Varadraje deshmukh  On जून 30, 2015 at 4:58 पूर्वाह्न

    साक्षात देव

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: